Cricket

35 ओवर में तिहरा शतक ठोकने के बाद ‘शॉक’ में आया ये बल्लेबाज़, जानिए वज़ह ?

Tue, 17 Oct 2017 09:55 PM 

17_10_2017-west_augusta_josh_dunstan

NEW DELHI (BNEWS24×7) –  आपने टेस्ट क्रिकेट में तो बल्लेबाज़ों को तिहरा शतक लगाते हुए बहुत बार सुना और देखा होगा, लेकिन क्या आपने सुना है कि एक बल्लेबाज़ ने 35 ओवर में ही तिहरा शतक बना दिया। जी हां, इस कमाल को अंजाम दिया एक ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज जोश डंस्टन ने। डंस्टन ने घरेलू मैच में 307 रन बनाने का कमाल कर दिखाया। अपनी इस पारी के दौरान उनके बल्ले से 40 छक्के भी निकले और उन्होंने ये पारी 35-35 ओवरों के मुकाबले में खेली। अपनी पारी में 40 छक्के लगाकर इस बल्लेबाज़ ने वेस्टइंडीज़ के सर विव रिचर्ड्स के रिकॉर्ड को भी पीछे छोड़ दिया।

इस वजह से जोश ने खेली ये पारी

पोर्ट अगस्ता क्रिकेट ऐसोसिएशन बी ग्रेड मुकाबले में वेस्ट अगस्ता की टीम का मैच सेंट्रल स्टार्लिंग टीम से था। ऑस्ट्रेलिया के आगस्ता कस्बे में आयोजित किए जा रहे इस टूर्नामेंट में जोश डंस्टन वेस्ट अगस्ता की टीम से खेल रहे थे। शनिवार को हुए इस मुकाबले में जोश इस वजह से ये पारी खेल सके क्योंकि उनकी टीम के 5 बल्लेबाज़ शून्य पर आउट हो गए, उनके अलावा सिर्फ एक बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा पार कर सका। रसेल ने 18 रन बनाए। यह टीम का दूसरा बेस्ट स्कोर रहा। बल्लेबाज़ों के जल्दी आउट होने के बाद जोश को तिहरा शतक बनाने का अवसर मिल गया। जोश और रसेल ने 7वें विकेट के लिए 203 रनों की साझेदारी की।

तीसरे नंबर पर बल्लेबाज़ी करते हुए किया कमाल

इस मैच में डिंस्टन तीसरे नंबर पर बल्लेबाज़ी करने के लिए मैदान पर उतरे। हालांकि 307 रन के पारी खेलकर डंस्टन आउट हो गए, लेकिन आउट होने से पहले उन्होंने अपनी टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया था।

जोश ने सर विव को ऐसे छोड़ा पीछे

इंटरनेशनल क्रिकेट की बात करें तो टीम के कुल स्कोर में सबसे अधिक रन बनाने का रिकॉर्ड वेस्टइंडीज के पूर्व बल्लेबाज विवियन रिचर्ड्स के नाम है। 1984 में रिचर्डस ने ओल्ड ट्रैफर्ड के मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ 189 रन बनाए थे जबकि उनकी टीम का स्कोर 9 विकेट पर 272 रन थे। टीम के कुल स्कोर का 69.48% रन रिचर्ड्स ने बनाए थे। वहीं जोश ने 307 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली और उनकी पूरी टीम का स्कोर 354 रन रहा तो ऐसे में जोश ने अकेले ही कुल स्कोर का 86.72% स्कोर अकेले ही बना दिया।

रिकॉर्ड के बाद शॉक में आए जोश

इस पारी के बाद जोश ने कहा- इस पारी से मैं खुद अब तक शॉक में हूं। ईमानदारी से मैंने 300 रन बना डाले। मेरा फोन तो आज लगातार बज रहा है। बता दें कि जोश को इस पारी के बाद लगातार बधाई संदेश आ रहे हैं। उनका ये रिकॉर्ड सोशल मीडिया पर भी काफी वायरल हो रहा है।

 

टूट गया विराट कोहली का सपना, अब कभी नहीं बदल पाएंगे इतिहास

Wed, 11 Oct 2017 08:29 PM

11_10_2017-sad_kohli_guwahati_t_20_india_lost

New Delhi (BNEWS*) – भारतीय टीम को गुवाहाटी में मिली नौ विकेट की हार ने सीरीज़ को रोमांचक बना दिया है। क्योंकि टीम इंडिया की इस हार के बाद मौजूदा टी-20 सीरीज़ 1-1 की बराबरी पर आ गई है। लेकिन ये हार टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को काफी समय तक याद रहेगी। क्योंकि इस एक हार से टीम इंडिया तीन-तीन उपलब्धियों से चूक गई।

virat_kohli_sad_india20lost_guwahati

हाथ से निकला क्लीन स्वीप करने का मौका   

दूसरे टी-20 में मिली इस हार के साथ ही विराट कोहली का ऑस्ट्रेलिया को लगातार दूसरी बार टी-20 सीरीज़ में क्लीन स्वीप करने का सपना चकनाचूर हो गया। इससे पहले भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में 2016 की शुरुआत में 3 टी-20 मैच की सीरीज़ में मात देते हुए क्लीन स्वीप किया था। हालांकि तब टीम इंडिया के वनडे और टी-20 कप्तान महेंद्र सिंह धौनी थे।

अब नहीं बदलेगा इतिहास

गुवाहाटी के एसीए-बारसापारा स्टेडियम में पहली बार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच का आयोजन हो रहा था और इस मैदान पर खेले गए पहले मुकाबले में टीम इंडिया ने हार से साथ अपना खाता खोला। इस मैदान पर भविष्य में भी मैच खेले जाएंगे, लेकिन रिकॉर्ड बुक्स में तो ये बात दर्ज़ हो ही गई है कि इस मैदान पर खेले गए पहले मैच में भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नौ विकेट से हार झेलनी पड़ी थी और इसे कोई भी कभी भी नहीं बदल पाएगा।

टूट गया लगातार सात जीत का सिलसिला

india20lost_guwahati20t2020

टीम इंडिया अगर ये मैच भी जीत जाती तो ये एक बड़ी उपलब्धि साबित होती, क्योंकि ये जीत ऑस्ट्रेलिया की टीम के खिलाफ भारत की क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट में लगातार आठवीं जीत भी होती। लेकिन ऐसा न सका, भारतीय बल्लेबाज़ों के खराब प्रदर्शन के चलते टीम इंडिया 20 ओवर में 118 रन बनाकर आल आउट हो गई।

इनकी वजह से स्टेडियम में छाई खामोशी

अपना सिर्फ दूसरा टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले बेहरेनडॉर्फ ने बेहतरीन प्रदर्शन किया। पश्चिम ऑस्ट्रेलिया के 27 वर्षीय इस गेंदबाज ने गेंद को दोनों ओर स्विंग कराया, जिसकी मदद से वह रोहित शर्मा (08), शिखर धवन (02) और विराट कोहली (00) जैसे दिग्गज बल्लेबाजों के विकेट लेने में सफल रहे। बेहरेनडॉर्फ ने कोहली को अपनी गेंद पर कैच लपककर पवेलियन की राह दिखाई। इसके बाद बेहरेनडॉर्फ ने मनीष पांडे (06) को विकेट के पीछे कैच कराया, जबकि उनकी ही गेंद पर धवन का वार्नर ने दर्शनीय कैच लपका। बेहरेनडॉर्फ ने चार ओवर में 21 रन देकर चार विकेट झटके।


jason_behrendorff_kohli20wicket
जांपा ने कसी नकेल 

बेहरेनडॉर्फ के चार ओवर का स्पैल भारतीय बल्लेबाजी क्रम की रीढ़ तोड़ने के लिए काफी था। बेहरेनडॉफ का प्रदर्शन किसी भी तरह के टी-20 मैचों में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। उनके इस प्रदर्शन की बदौलत भारतीय टीम पांचवें ओवर में 27 रन पर चार विकेट गंवाकर गहरे संकट में घिरी नजर आ रही थी। ऐसे में केदार जाधव (27) और महेंद्र सिंह धौनी (13) ने पांचवें विकेट के लिए 33 रन जोड़कर पारी को संभालने की कोशिश की। हालांकि, लेग स्पिनर एडम जांपा (2/19) ने मध्य के ओवरों में जाधव और धौनी के विकेट झटकते हुए भारत पर नकेल कसी। उन्होंने धौनी को स्टंप आउट कराया, जबकि केदार को बोल्ड किया। धौनी और केदार के आउट होने से भारत का स्कोर छह विकेट पर 67 रन हो गया। हार्दिक पांड्या (25) ने मिडविकेट के ऊपर से छक्का जड़कर दर्शकों का मनोरंजन किया, लेकिन यह भारत के स्कोर को चुनौतीपूर्ण बनाने के लिए काफी नहीं था।


adam20zampa_guwahati20t20_kedar20jadhav

मोइसेस-हेड की साझेदारी

आसान लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलिया की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही। दूसरे ही ओवर में जसप्रीत बुमराह (1/25) ने कप्तान डेविड वार्नर (02) को कोहली के हाथों कैच कराया। अगले ओवर में भुवनेश्वर कुमार (1/09) ने एरोन फिंच (08) को भी कोहली के हाथों लपकवाया। तीसरे ओवर में 13 रन के स्कोर तक ऑस्ट्रेलिया की सलामी जोड़ी पवेलियन लौट चुकी थी। लेकिन हेड और हेनरिक्स की साझेदारी ने भारत से मैच छीन लिया और ऑस्ट्रेलिया ने 15.3 ओवर में दो विकेट पर 122 रन बनाकर मैच अपने नाम कर लिया। मोइसेस ने 46 गेंदों पर चार चौकों और चार छक्कों की मदद से नाबाद 62 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया ने तीन मैचों की सीरीज में 1-1 से बराबरी हासिल कर ली।



यूसुफ पठान ने एक मैच में जमा दिए दो शतक, लेकिन फिर फंस गए विवाद में

Tue, 10 Oct 2017 05:54 PM 

 

10_10_2017-yusuf_pathan_twin_century_ranji_trophy_mp

New Delhi(BNEWS*) – भारतीय टीम से बाहर चल रहे ऑलराउंडर इरफान पठान के बड़े भाई यूसुफ पठान ने रणजी ट्रॉफी में दो पारियों में लगातार दो शतक लगा दिया। बड़ौदा के लिए खेलते हुए यूसुफ ने रणजी ट्रॉफ टूर्नामेंट के ग्रुप सी के मुकाबले में मध्य प्रदेश के खिलाफ दो-दो सेंचुरी ठोकी। लेकिन, इस शानदार प्रदर्शन के बावजूद भी वो अपनी टीम को जीत दिलाने में नाकाम रहे।

इरफान ने भी दिखाए हाथ

इंदौर के होल्कर स्टेडियम में खेले गए इस मैच में यूसुफ ने पहली पारी में 111 रन तो दूसरी पारी में 136 रन की दमदारी पारियां खेली और शतक जमाए। लेकिन उनकी ये शानदार पारियां भी उनकी टीम को 8 विकेट की हार से नहीं बचा पाईं। इस मुकाबले की पहली पारी में इरफान पठान ने भी बल्लेबाज़ी में अपना जलवा दिखाते हुए 80 रन की पारी खेली थी।

8 विकेट से हारा बड़ौदा

इस मुकाबले में मध्य प्रदेश ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए पहली पारी में 8 विकेट खोकर 551 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया। इसके जबाव में बड़ौदा की टीम फॉलोऑन नहीं बचा सकी और पहली पारी में 302 पर ऑल आउट हो गई। दूसरी पारी में भी बड़ौदा की पूरी टीम  318 रन पर ही सिमट गई। हालांकि दूसरी पारी में भी यूसुफ ने शतक जमाते हुए 136 रन की पारी खेली।

ऐसा करने वाले छठे बल्लेबाज़ बनें यूसुफ

बड़ौदा की ओर से दोनों पारियों में शतक लगाने के मामले में यूसुफ पठान छठे बल्लेबाज बन गए। यूसुफ ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में दोनों पारियों में शतक लगाने का कमाल दूसरी बार किया है। इससे पहले उन्होंने 2010 में दलीप ट्रॉफी की एक पारी में शतक तो दूसरी में दोहरा शतक जड़ने का कारनामा किया था।

इस मामले में तीसरे नंबर पर आए यूसुफ 

इस मैच की दोनों पारियों में यूसुफ ने कुल मिलाकर 13 छक्के लगाए। पहली पारी में यूसुफ के बल्ले से 6 तो दूसरी पारी में 7 छक्के निकले। इसके साथ ही यूसुफ रणजी ट्रॉफी मैच में किसी बल्लेबाज द्वारा सबसे ज्यादा छक्के लगाने के मामले में संयुक्त रूप से तीसरे नंबर पर आ गए। 1984-85 सीजन में रवि शास्त्री ने अपने दोहरे शतकीय पारी के दौरान 13 छक्के लगाए थे। ऋषभ पंत (21) और इशान किशन (14) दोनों बाएं हाथ के बल्लेबाजों ने दिल्ली और झारखंड के लिए ये छक्के लगाए। 1990-91 सीजन में हिमाचल प्रदेश के शक्ति सिंह ने भी हरियाणा के खिलाफ मैच में 14 छक्के लगाए थे।

कूल-कूल दिखने वाले यूसुफ ने खोया आपा

इस मैच में एक समय ऐसा भी आया जब दो शतक जमाने वाले यूसुफ पठान ने अपना आपा खो दिया। बड़ौदा की पहली पारी के दौरान तीसरे दिन दोनों भाई यूसुफ और कप्तान इरफान पठान बल्लेबाजी कर रहे थे। तभी मध्य प्रदेश के स्पिनर मिहिर हिरवानी जो कि पूर्व भारतीय स्पिन गेंदबाज़ नरेंद्र हिरवानी के बेटे हैं। उनसे युसुफ की कुछ बहस हो गई। यूसुफ हिरवानी की गेंद पर रन लेने के लिए दौड़ रहे थे और उन्हें लगा कि हिरवानी उनका रास्ता रोकने की कोशिश कर रहे हैं। इस पर यूसुफ ने हिरवानी को कुछ कहा और इसके बाद हिरवानी ने भी यूसुफ को जवाब दिया तो दोनों के बीच तीखी नोंक-झोंक शुरू हो गई। मामला गर्माते देख अंपायरों, मध्य प्रदेश के कप्तान देवेंद्र बुंदेला और इरफान पठान ने दोनों खिलाड़ियों को एक-दूसरे से दूर कर मामले को शांत करवाया और खेल एक बार फिर से शुरू हुआ।

 



 ऑस्ट्रेलिया ने रोका भारत का विजयी रथ, चौथे वनडे में 21 रन से हराया

Fri- 29 Sep 2017 08:50 AM

नई दिल्ली, जेएनएन। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच बेंगलुरु में खेले गए चौथे वनडे मुकाबले में टीम इंडिया को 21 रन से हार का सामना करना पड़ा। पांच वनडे मैचों की सीरीज में भारत फिलहाल 3-1 से आगे है। तीन लागातार जीत के बाद इस वनडे सीरीज में भारत की ये पहली हार है। चौथे वनडे मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने का फैसला किया। ऑस्ट्रेलिया ने निर्धारित 50 ओवर में 5 विकेट खोकर 334 रन बनाए। इसके जबाव में भारतीय टीम 50 ओवर में 8 विकेट पर 313 रन ही बना पाई। डेविड वार्नर को उनकी शानदार शतकीय पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। विदेशी धरती पर पिछले 14 वनडे मैचों में ये ऑस्ट्रेलिया की पहली जीत है।

डेविड वार्नर का शानदार शतक

डेविड वॉर्नर एक बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में अक्षर पटेल को कैच दे बैठे। केदार जाधव की गेंद पर आउट होने से पहले वॉर्नर ने 119 गेंदों पर 124 रन बनाए। इस पारी में वॉर्नर ने 12 चौके और 6 दमदार छक्के भी जमाए। इसके बाद उमेश यादव की गेंद पर एरॉन फिंच 94 रन बनाकर आउट होकर शतक से चूक गए। हार्दिक पांड्या ने फिंच का कैच पकड़कर भारत को दूसरी सफलता दिलाई। 03 रन बनाकर ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ भी पवेलियन लौट गए। स्मिथ ने उमेश यादव की गेंद पर विराट कोहली के हाथ में कैच थमा दी। ट्रेविस हेड के दौर पर उमेेश ने अपना तीसरा विकेट लिया। हेड 29 रन बनाकर रहाणे के हाथों उमेश की गेंद पर कैच आउट हुए। उमेश यादव ने हैंड्सकौंब को 43 रन पर क्लीन बोल्ड कर दिया।

भारत की तरफ से उमेश यादव ने चार और केदार जाधव ने एक विकेट लिए।

रोहित और रहाणे व पांड्या के अर्धशतक

भारत की शुरुआत अच्छी रही और रहाणे व रोहित ने पहले विकेट के लिए 106 रन की साझेदारी की। भारत को पहला झटका रहाणे के तौर पर गिरा। उन्होंने 53 रन की पारी खेली। रहाणे रिचर्डसन की गेंद पर फिंच के हाथों लपके गए। स्मिथ की शानदार फील्डिंग के कारण रोहित और विराट का तालमेल बिगड़ा और रोहित शर्मा 55 गेंदों पर 65 रन बनाकर रन आउट होकर पवेलियन लौट गए। कप्तान कोहली 21 रन बनाकर कुल्टर नाइल की गेंद पर बोल़्ड हो गए और भारत की मुश्किलें बढ़ा गए। 41 रन बनाकर पांड्या एड्म जांपा की गेंद पर डेविड वॉर्नर की गेंद पर कैच थमा गए और भारत को लगा चौथा झटका। केदाज जाधव ने 67 रनों की शानदार पारी खेली। वो रिचर्डसन की गेंद पर फिंच के हाथों कैच आउट हुए। मनीष पांडे को 33 रन पर पैट कमिंस ने क्लीन बोल्ड कर दिया। धौनी 13 रन बनाकर बोल्ड हो गए। शमी 6 रन जबकि उमेश यादव दो रन बनाकर नाबाद रहे।

ऑस्ट्रेलिया की तरफ से रिचर्डसन ने तीन, कूल्टर नाइल ने दो जबकि पैट कमिंस और एडम जम्पा ने एक-एक विकेट लिए।


कपिल देव ने इस खिलाड़ी के सामने झुकाया सिर, बताया खुद से महान ऑल राउंडर


नई दिल्ली, = भारत के सबसे महान ऑल राउंडर माने जाने वाले कपिल देव ने कहा है कि टीम इंडिया के पास इस समय उनसे भी अच्छा ऑल राउंडर मौजूद है। यह खिलाड़ी कोई और नहीं सुर्खियां बटोर रहे हार्दिक पांड्या है। कपिल देव का मानना है कि हार्दिक पांड्या उनसे भी अच्छे खिलाड़ी हैं, लेकिन इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि पांड्या को काफी मेहनत करने की जरूरत है। 1983 में भारत के लिए पहली बार विश्व कप जीतने वाली टीम के कप्तान रहे कपिल देव ने एक टीवी चैनल से कहा, ‘हार्दिक मुझसे भी अच्छे खिलाड़ी हैं। हालांकि अभी यह कहना जल्दबाजी होगी। उन्हें अभी बहुत कुछ हासिल करना है और इसके लिए उन्हें कड़ी मेहनत करनी होगी। हमें उन्हें खेलने देना चाहिए और उन पर मैदान के बाहर का दबाव नहीं डालना चाहिए। पांड्या बहुत प्रतिभाशाली और शानदार खिलाड़ी हैं जो उन्हें मुझसे भी आगे खड़ा करता है।’


आपको बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा सीरीज के शुरुआती 3 वनडे मैचों में पांड्या ने गेंद और बल्ले दोनों से कमाल दिखाया है। पांड्या ने 3 मैचों में से 2 में ‘मैन ऑफ द मैच’ का खिताब हासिल किया है। वह मौजूदा सीरीज में अभी तक सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। पांड्या ने 3 मैचों में 60.33 की औसत से 181 रन बनाए हैं और 2 अर्द्धशतक भी लगाए हैं। उन्होंने इस सीरीज में अब तक 3 मैचों में 5 विकेट लिए हैं। पांड्या ने अपने छोटे से करियर में टीम में तेज गेंदबाज ऑलराउंडर की कमी को पूरा करने का दम दिखाया है। उनसे उम्मीद की जा रही है कपिल देव, रॉबिन सिंह और इरफान पठान जैसे खिलाड़ियों की कमी पूरी करेंगे और टीम में अहम स्थान बनाएंगे।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s